Saturday, 12 May 2018

अमीर-गरीब की दोस्ती जैसे घोड़ा और घास… जैसे दोधारी तलवार जो उपर से भी काटती है और नीचे से भी… धर्मेन्द्र मन्नु

No comments:

Post a Comment